आदमखोर कोशिकाओं की मदद से वैज्ञानिकों ने खोजा कैंसर इलाज का नया तरीका

0

कैंसर की बढ़त रोकने में ‘आदमखोर कोशिकाएं’ मददगार हो सकती हैं। शोधकर्ताओं ने एक नए अध्ययन के नतीजों में यह उम्मीद जताई है। उनका कहना है कि स्वस्थ कोशिकाओं को उनके आसपास मौजूद कैंसरग्रस्त कोशिकाओं के खात्मे के लिए प्रेरित किया जा सकता है। इस तरह इस घातक बीमारी के फैलने की गति धीमी की जा सकती है या उसको बढ़ने से रोका जा सकता है।

इंटोसिस की प्रक्रिया :
शोधकर्ताओं ने बताया कि जो कोशिकाएं अन्य कोशिकाओं को मारकर खा जाती हैं उन्हें ‘आदमखोर या स्वजातिभक्षी कोशिकाएं’ (कैनिबल सेल) कहते हैं। जबकि कोशिकाओं के अन्य कोशिकाओं को खाने या मार डालने की प्रक्रिया को ‘कोशिकीय स्वजाति-भक्षण’ (सेल कैनिबलिज्म) कहा जाता है। कोशिकीय स्वजाति-भक्षण को वैज्ञानिक भाषा में इंटोसिस भी कहते हैं। यह दरअसल एक जीवित कोशिका का दूसरी कोशिका के जीवद्रव्य पर हमला होता है। शोधकर्ताओं के अनुसार, इंटोसिस स्वस्थ कोशिकाओं के बीच आम तौर पर नहीं होती। लेकिन ट्यूमर की कोशिकाओं में यह एक सामान्य प्रक्रिया है।

अनियंत्रित कोशिका विभाजन :
ब्रिटेन के बैबराहम इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में पाया कि कोशिका विभाजन के जरिये कोशिकाओं में स्वजाति भक्षण की प्रक्रिया शुरू कराई जा सकती है। कोशिका विभाजन किसी एक कोशिका के विभाजित होकर दो स्वतंत्र कोशिकाएं बनने की प्रक्रिया है। शोधकर्ताओं ने कहा, अनियंत्रित रूप से होने वाला कोशिका विभाजन ही कैंसर पैदा करता है। इससे यह पता चला कि कोशिकाओं में स्वजाति भक्षण को प्रेरित कर उनमें अनियंत्रित विभाजन को नियंत्रित किया जा सकता है।

मनुष्य की कोशिका पर प्रयोग :
शोधकर्ताओं ने इस संभावना का पता लगाने के लिए मनुष्य की उपकला (एपिथैलियल) कोशिकाओं का परीक्षण किया। ये कोशिकाएं शरीर में कई सतहों का निर्माण करती हैं। मनुष्यों में होने वाले 80 प्रकार के कैंसर पैदा करने में भी इनकी भूमिका होती है। सामान्य तौर पर उपकला कोशिकाएं विभाजन के बाद भी अपने आसपास से मजबूती से जुड़ी रहती हैं। शोधकर्ताओं ने पाया कि इन कोशिकाओं का जुड़ाव कमजोर कर देने से इनमें इंटोसिस की प्रक्रिया शुरू हो गई।

जिम्मेदार प्रोटीन की पहचान :
शोधकर्ता जो डुर्गन ने कहा, हम ट्यूमर कोशिकाओं में इंटोसिस के लिए जिम्मेदार प्रोटीनों की पहचान करना चाहते थे। इसलिए हमने माइक्रोस्कोपी का इस्तेमाल कर ट्यूमर कोशिकाओं में इंटोसिस की प्रक्रिया की पूरी पड़ताल की। यह बिल्कुल अप्रत्याशित और नई चीज थी। उन्होंने कहा, कोशिका विभाजन की प्रक्रिया में हमने जिन सूत्रों की पहचान की वे कैंसर को रोकने के संदर्भ में वाकई दिलचस्प हैं। शोधकर्ताओं ने कहा, इस खोज से पता चला कि विभाजित हो रही कोशिकाएं अपेक्षाकृत आसानी से अन्य कोशिकाओं द्वारा खत्म की जा सकती हैं। इससे साफ है कि इंटोसिस की प्रक्रिया के जरिये कैंसर कोशिकाओं को स्वस्थ कोशिकाओं के जरिये नष्ट कराया जा सकता है। यह अध्ययन ई-लाइफ जर्नल में प्रकाशित हुआ है।

एजेंसी

जर्नल में प्रकाशित हुआ है।

SHARE

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY